गुर्जर आंदोलन में हिंसा: धौलपुर में नेशनल हाइवे पर आगजनी, पुलिस पर की गई पत्थरबाजी

गुर्जर समुदाय के सदस्यों ने रविवार को तीसरे दिन सवाई माधोपुर जिले में रेल पटरियों पर अपना धरना जारी रखा।

जयपुर: राजस्थान के धौलपुर हाईवे पर रविवार को पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प के बाद गुर्जर समुदाय द्वारा किया गया कोटा आंदोलन हिंसा के कारण भड़क गया। प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर जाम लगा दिया और वाहनों को आग लगा दी।

गुर्जर समुदाय के सदस्यों ने अपनी कोटा की मांग के लिए रविवार को तीसरे दिन स्वाई माधोपुर जिले में रेल पटरियों पर अपना धरना जारी रखा, अधिकारियों को तीन ट्रेनों को रद्द करने और एक को डायवर्ट करने के लिए मजबूर किया।

गुर्जर अरक्षण संघर्ष समिति के प्रमुख किरोड़ी सिंह बैंसला और उनके समर्थकों द्वारा शुक्रवार शाम को नाकाबंदी शुरू कर दी गई और पश्चिम मध्य रेलवे (सीडब्ल्यूआर) को पिछले दो दिनों में लगभग 200 ट्रेनों को हटाने, रद्द करने या आंशिक रूप से समाप्त करने के लिए मजबूर किया है।

इस बीच, पश्चिम रेलवे ने भीड़ को हटाने और फंसे हुए यात्रियों को वैकल्पिक मार्ग देने के लिए विशेष रेलगाड़ी तैनात की।

26 अक्टूबर, 2018 को, राजस्थान सरकार ने एक विधेयक पारित किया था, जिसने अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) कोटे को 21 प्रतिशत से बढ़ाकर 26 प्रतिशत कर दिया था। दिसंबर 2018 में, राज्य सरकार ने गुर्जर और चार ओबीसी के लिए एक प्रतिशत आरक्षण को भी मंजूरी दी थी।

वर्तमान में, इन समुदायों को ओबीसी आरक्षण के अलावा सबसे पिछड़े वर्ग के लिए निर्धारित 50 प्रतिशत कोटा की कानूनी सीमा के तहत एक प्रतिशत अलग से आरक्षण मिल रहा है।

पढ़े | पीएम ने पूर्वोतर को दी एयरपोर्ट की सौगात, पीएम मोदी ने अरुणाचल प्रदेश में 4,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शुभारंभ किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *