बाढ-बारिश का कहर जारी: देश में अबतक 106 लोगों की मौत

बाढ-बारिश का कहर जारी

देश के कई राज्यों में बाढ़ और बारिश ने अपना कहर बरपा रखा है. केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र और गुजरात में बाढ़ और बारिश से अबतक करीब 106 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं अकेले केरल में 42 और कर्नाटक में अबतक 24 लोगों की मौत हुई है. मध्य प्रदेश के कई जिले बाढ़ बारिश का प्रकोप झेल रहे हैं. इसके अलावा महाराष्ट्र के सांगली में बाढ़ के हालात ऐसे हैं कि जिन सड़कों पर गाड़ियां दौड़ती थीं वहां आज नाव चल रही है. हालांकि महाराष्ट्र के सांगली और कोल्हापुर में बाढ़ का पानी घट रहा है.

महाराष्ट्र में अब तक कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई है, जहां सांगली और कोल्हापुर जिलों में जल स्तर घटने लगा है, जो बाढ़ के कहर से सबसे ज्यादा प्रभावित है।

5,000 से अधिक एनडीआरएफ कर्मियों को बचाव और राहत कार्यों में लगाया गया है। पिछले तीन दिनों में 45 मौतों की रिपोर्ट से केरल सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है, क्योंकि रेल और हवाई सेवाएं प्रभावित हुईं और अधिकारियों ने निचले इलाकों और जलमग्न क्षेत्रों के लोगों को बचाने के लिए हाथापाई की। राज्यों ने बचाव के प्रयासों के लिए सेना, नौसेना, वायु सेना के साथ-साथ स्थानीय पुलिस और एसडीआरएफ की टीमों की मदद भी मांगी है। आईएमडी ने कल 10 अगस्त को केरल के सात जिलों में रेड अलर्ट जारी किया था।

सैलाब बना जानलेवा

केरल में बारिश और बाढ़ का प्रभाव फिलहाल चरम पर है. यहां लोगों को बचाने के लिए राहत एवं बचाव कार्य जोरों पर है. केरल के वायनाड जिले में बाढ़ ने लोगों की परेशानियां बढ़ा दी हैं. लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है.

मौसम विभाग ने निम्न दबाव के प्रभाव से समुद्र में स्थिति खराब होने की आशंका के मद्देनजर लोगों को सावधानी बरतने को कहा है और मछुआरों को आज और कल यानि सोमवार को समुद्र तट के पास या समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है. ओडिशा-पश्चिम बंगाल तट पर गहरा दबाव बनने से राज्य के दक्षिण और पश्चिम हिस्से में करीब नौ जिलों और उसके आस पास के क्षेत्र में कई इलाकों में हाल में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गयी थी. मूसलाधार बारिश के कारण कालाहांडी, कंधमाल, कोरापुट और मलकानगिरी जिलों में एक-एक व्यक्ति की मौत हो गयी थी और इन नौ जिलों में 1,035 गांवों में रहने वाले 1.77 लाख लोग प्रभावित हुए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *